Entrepreneurship

निर्यात कैसे करें HOW TO EXPORT

Google+ Pinterest LinkedIn Tumblr

गला काट प्रतियोगिता के इस युग में, हर कोई घरेलू बाजार की सीमा से परे अपना व्यवसाय बढ़ाना चाहता है। हालाँकि, विश्व स्तर (Globally) पर व्यवसाय करना सभी के लिए कोई बच्चो का खेल नहीं है।

विश्व स्तर पर व्यवसाय करने से पहले, आपको कई प्रक्रियाओं और कानूनों का पालन करना होगा और विभिन्न registration और लाइसेंस प्राप्त करने होंगे ।

Exports शुरू कैसे करें

Exports अपने आप में एक बहुत ही बड़ा अवधारणा है और exports शुरू करने से पहले एक businessman को बहुत सारी तैयारी की आवश्यकता होती है।

Export व्यवसाय शुरू करने के लिए, निम्नलिखित चरणों का पालन करना पड़ता है:

1. एक संगठन (organization) की स्थापना

Export business शुरू करने के लिए, पहले एक sole proprietary firm / partnership firm / company को एक नाम और logo के साथ स्थापित करना होगा।

2. बैंक खाता खोलना

Foreign exchange में deal करने के लिए किसी भी authorized बैंक के साथ एक current account खोला जाना चाहिए।

3. Permanent Account Number (PAN) प्राप्त करना

हर exporter और importer के लिए income tax department से PAN प्राप्त करना आवश्यक है।

4. आयातक-निर्यातक कोड (Import Export Code) संख्या प्राप्त करना

Foreign trade policy के अनुसार, भारत से export/import के लिए IEC प्राप्त करना जरूरी है। IEC के लिए एक आवेदन www.dgft.gov.in पर online आवेदन किया जाता है।

5. Registration cum membership certificate (RCMC)

Export / import या किसी अन्य लाभ या रियायत का फायदा उठाने के लिए, साथ ही सेवाओं / मार्गदर्शन का लाभ उठाने के लिए, exporters को RCMC प्राप्त करना आवश्यक है।

6. उत्पाद (product) का चयन

Prohibited / restricted सूची में प्रदर्शित होने वाली कुछ वस्तुओं को छोड़कर सभी आइटम export योग्य हैं।
भारत से विभिन्न products के exports को देखने के बाद exports किए जाने वाले product का उचित selection किया जा सकता है।

7. बाजार (overseas market) का चयन

एक विदेशी बाजार का चयन बाजार के आकार, competition, quality, payment terms आदि को कवर करने के बाद का बाज़ार का चयन किया जाना चाहिए।

FTP के अनुसार कुछ देशों के लिए उपलब्ध exports benefit के आधार पर बाज़ार का evaluation भी कर सकते हैं।

8. खरीदार (buyer) ढूंढना

Trade fairs में भाग लेना, seller buyer meet करना, प्रदर्शनियां, B2B पोर्टल, web browsing एक प्रभावी उपकरण हैं buyers को खोजने के लिए । विदेश में EPC, भारतीय मिशन, overseas chambers भी मददगार हो सकते हैं।

बहुभाषी(multilingual) website जिसमे product catalogue, price, payment terms की शर्तों संबंधित जानकारी के साथ बनाना भी मदद करेगा।

9. Samples देना

विदेशी buyers की मांगों के अनुसार samples देना, export order प्राप्त करने में मदद करता है।

10. Pricing / Costing

International competition को देखते हुए buyers का ध्यान आकर्षित करने और sale को बढ़ावा देने के लिए product pricing करना बहुत ही महत्वपूर्ण है।

Price को सभी खर्चों को ध्यान में रखकर रखा जाना चाहिए। Export costing को करने का लक्ष्य maximum profit margin के साथ competitive price पर अधिकतम मात्रा में बेचना चाहिए।

Export order कैसे process किया जाए

1. Order का Confirmation करना

Export order मिलने पर, आइटम, specifications, payment terms, पैकेजिंग आदि के संबंध में सावधानीपूर्वक जांच की जानी चाहिए और फिर order का confirmation किया जाना चाहिए।

उसके बाद, exporter विदेशी buyer के साथ एक formal contract में प्रवेश कर सकता है।

2. माल की खरीद

एक्सपोर्ट order confirmation के बाद, export के लिए आवश्यक वस्तुओं की purchase / manufacturing के लिए जरूरी कदम उठाए जा सकते हैं। Export ऑर्डर बहुत प्रयासों और competition के साथ प्राप्त किया जाता है, इसलिए buyer की आवश्यकता के अनुसार सख्ती procurement होना चाहिए।

3. Quality control

Export goods के बारे में सख्त quality के प्रति सचेत होना बहुत ही आवश्क है। विदेशी buyers भी अपने खुद के standards / specifications को निर्धारित कर सकते हैं और अपनी nominated एजेंसियों द्वारा inspection पर जोर दे सकते हैं। Export business को बनाए रखने के लिए high quality बनाए रखना आवश्यक है।

4. Finance

Export लेन-देन को पूरा करने के लिए concessional ब्याज दरों पर commercial banks से pre-shipment और post-shipment finance प्राप्त किया जा सकता हैं।

5. Labeling, packaging, और marking

Export goods को buyer के instructions के अनुसार लेबल, मार्किंग और सख्ती से पैक किया जाना चाहिए। अच्छी पैकेजिंग goods को शीर्ष स्थिति में और आकर्षक तरीके से present करती है।

इसी तरह, अच्छी पैकिंग आसान हैंडलिंग, अधिकतम लोडिंग, शिपिंग cost को कम करने और cargo की सुरक्षा और standards सुनिश्चित करने में मदद करती है।

Address, पैकेज संख्या, port और destination, वजन, हैंडलिंग आदि जैसे marking माल पैक की पहचान और जानकारी प्रदान करता है।

6. Insurance

Goods को Marine insurance policy, transit के दौरान नुकसान या क्षति के risk को कवर करती है। आमतौर पर CIF contract में exporter बीमा की व्यवस्था करते हैं जबकि C&F और FOB contract के लिए buyer बीमा पॉलिसी प्राप्त करते हैं।

7. Delivery

यह export की महत्वपूर्ण विशेषता है और exporter को delivery schedule का पालन करना चाहिए। तेज और कुशल डिलीवरी के लिए planning होनी चाहिए।

8. Custom house agents

Exporter, commissioner of custom द्वारा लाइसेंस प्राप्त custom house agents की सेवाओं का लाभ उठा सकते हैं। वे cargo की clearance से जुड़े काम की सुविधा प्रदान करते हैं

9. Documentation

FTP 2015-2020 में export और import के लिए निम्नलिखित जरूरी documents का वर्णन है।

· Bill of lading / Airway bill
· Commercial invoice cum packing list
· Shipping bill / bill of export / bill of entry
· (अन्य documents जैसे कि certificate of origin, inspection certificate आदि मामले के अनुसार आवश्यक हो सकते हैं।)

10. Documents को बैंक में जमा करना

Shipment के बाद, भुगतान की व्यवस्था के लिए foreign बैंक को 21 दिनों के भीतर documents प्रस्तुत करना अनिवार्य है। निम्नलिखित documents तैयार किए जाने चाहिए

  • Bill of Exchange
  • Letter of Credit (if shipment is under L/C)
  • Invoice
  • Packing List
  • Airway Bill/Bill of Lading
  • Declaration under Foreign Exchange
  • Certificate of Origin/GSP
  • Inspection Certificate, जहां भी आवश्यक हो

तो यह थी जानकारी निर्यात कैसे करें HOW TO EXPORT के बारे मैं।


हमें आशा है कि आपको यह लेख पसंद आया होगा। कृपया इस लेख को अपने निकट और प्रिय लोगों के साथ share करें।

आपको पसंद आएंगे – You Might Also Like

Write A Comment

Pin It