Entrepreneurship

Pradhan Mantri Mudra Yojana – प्रधान मंत्री मुद्रा योजना

Google+ Pinterest LinkedIn Tumblr

भारत सरकार ने 8 April, 2015 को प्रधानमंत्री मुद्रा योजना (Pradhan mantri Mudra Yojna) योजना शुरू की, जो non-corporate, non-farm, छोटे स्तर के उद्योगो को 10 लाख तक के loans प्रदान करती है।

यह योजना उनकी funds की जरूरतों को पूरा करने के लिए है। यह लोन Non-farming और small level की industries को दिया जाता है।

यह इन industries को loan MUDRA (Micro unit development & Refinance Agency Ltd.) के तहत देता है।

MUDRA, 10 लाख तक का लोन eligible industries को banks, RRBs, NBFC और MFI के द्वारा देता है।

इस पोस्ट मैं आप जानेगे पूरी जानकारी मुद्रा योजना के बारे मैं।

Pradhan Mantri Mudra Yojana – प्रधान मंत्री मुद्रा योजना

MUDRA की उत्पत्ति – Origin of MUDRA

देश के इतने बड़े economic sector में कृषि (agriculture) के बाद non-corporate की छोटी छोटी ऐसी industries का समावेश है, जो employment के अवसरों का एक बड़ा हिस्सा पैदा करता है, जिसका अनुमान लगभग 10 करोड़ है जो 50 करोड़ भारतीयों के जीवन को प्रभावित करता है।

वे मुख्य रूप से manufacturing, trading, processing और services में लगे हुए हैं, और इन enterprises को proprietary या Own Account Enterprise (OAE) में वर्गीकृत किया गया है।

साफ शब्दो मे, इस क्षेत्र को देश का एक बड़ा economic support कहा जाता है, फिर भी इसे दुनिया में सबसे बड़ा disorganized business eco-system माना जाता है।

NSSO (National Sample Survey Office) के 2013 के survey के अनुसार OAE मे लगभग 6 करोड़ units है, जो formal financial sector के दायरे से बाहर हैं।

वे बड़े पैमाने पर self-financed या साहूकारों पर निर्भर हैं, और किसी credit facility का लाभ नहीं ले रहे हैं।

उनकी इस आवश्यकता को ध्यान मे रखने से economy को बड़ा बढ़ावा मिलेगा नहीं तो यह वर्ग प्रभावित होगा और productive labour force का एक हिस्सा unemployed रहेगा।

PMMY में MUDRA scheme का उद्देश्य इस विशाल क्षेत्र को institutional loan के दायरे में लाना है, जिससे उन्हें employment और GDP growth मे एक शक्तिशाली साधन में बदला जा सके।

MUDRA की संरचना – Structure of MUDRA Scheme

इसे SIDBI (Small Industries Development Bank of India) ने एक wholly owned subsidiary कंपनी के रूप में 1000 करोड़ रुपये की authorised capital और Rs.750 करोड़ की paid-up capital के साथ बनाया है।

MUDRA का मुख्य उदेशय eligible activities में लगे छोटी enterprises को विकसित करने और financial support करना है।

यह उन financial institutions का समर्थन करता है जो MUDRA loan scheme का विस्तार करने के व्यवसाय में हैं।

Micro finance पर जोर economic development को बढ़ावा दे सकता है, जो जीवन को बनाए रखने के पर्याप्त अवसरों के साथ financial literacy, employment generation और समाज के सबसे कमजोर वर्ग को सामाजिक समर्थन देता है।

MUDRA loan के मुख्य लाभ – Benefits of Mudra Loan Scheme

  1. छोटे और बहुत छोटे income generation मे लगे उद्योगो को loan facilities देना इसका प्रमुख लक्ष्य हैं।
  2. Borrowers को Mudra loan का लाभ उठाने के लिए कोई security देने की आवश्यकता नहीं होती है।
  3. Loan का लाभ उठाने के लिए कोई processing fee नहीं है। और loan चुकाने के लिए time period को 5 साल तक बड़ाया जा सकता है।
  4. Loans दिये जाते हैं funded और non-funded category के लिए, जो पैसे का उपयोग करने के लिए flexibility को प्रेरित करते हैं।
  5. यह loans बहुत से रूप में हैं, जैसे term loan, overdraft facility, bank guarantee| इस प्रकार की आवश्यकताओं की एक बहुत बड़ी कड़ी को पूरा करते हैं।
  6. Mudra Loan scheme में कोई minimum amount नहीं है।
  7. PMMY मे loan लेने वालों मे 4 मे से 3 महिलाये है, इसमे महिलायों पर focus किया गया है।

MUDRA Loan का उदेश्य – Purpose of Mudra Loan

Mudra loan को बहुत से उद्देश्यों के लिए दिया जाता है जिसके कारण income और employment development होता है।

Mudra Loan का दायरा मुख्य रूप से बढ़ाया गया हैं:-

  • Vendors, traders, दुकानदारों और अन्य service sector की activities के लिए business loan देना।
  • MUDRA कार्ड के माध्यम से working capital loan देना।
  • छोटी units को machinery के लिए loan provide कराना।
  • Transport vehicle loan – केवल commercial use के लिए।
  • Non-farm activities को income generation के लिए loan देना जैसे मछली पालन। मधुमक्खी पालन, मुर्गी पालन आदि।

निम्नलिखित activities की एक list है जो MUDRA loan के तहत कवर की जाती है:-

1) Transport Vehicle (परिवहन वाहन)

Transport vehicles को goods और passengers के transportation के लिए खरीदना जैसे कि ऑटो रिक्शा, छोटे goods transport vehicles, 3 wheelers, ई-रिक्शा, टैक्सी, आदि। ट्रैक्टर / पावर टिलर जो केवल commercial purposes के लिए उपयोग किए जाते हैं, वे भी PMMY के तहत सहायता के लिए eligible हैं।

Commercial purpose के लिए उपयोग किए जाने वाले two-wheeler भी PMMY के तहत आते हैं।

2) Community, Social और personal service activities

Salon, ब्यूटी पार्लर, gym, बुटीक, tailor की दुकानें, ड्राई क्लीनिंग, साइकिल और मोटर साइकिल की repairing की दुकानें, फोटोकॉपी shops, medicine की दुकानें, courier services आदि इसमे आते है।

3) Food products sector

पापड़ बनाने, आचार बनाने, जैम / जेली बनाने, मिठाई की दुकानों, छोटी service वाले food stalls और रोजमरा की catering / canteen services, cold chain vehicles, कोल्ड स्टोरेज, ice making units, ice cream making units, बिस्किट, ब्रेड बनाना आदि इसमे आते है।

4) Textile products sector

Handlooms, पावरलूम, खादी, चिकन, जरी और जरदोजी, embroidery और हाथ का काम, traditional dying और छपाई, apparel design, knitting, सूती बुनाई, computerized embroidery, सिलाई और दूसरे non garment product जैसे बैग, vehicle accessories , furnishing accessories आदि के लिए मिलता है।

5) व्यापारियों और दुकानदारों के लिए business loan

अपनी दुकानों / trading और business activities / service sector को financial assistance जो हर enterprise को 10 लाख तक के लोन देना हैं।

6) Small units के machinery के लिए

10 लाख तक के आवश्यक machinery / equipment खरीदकर small units स्थापित करना।

7) कृषि से जुड़ी गतिविधियाँ

‘कृषि से जुड़ी activities जैसे मछली पालन, मधुमक्खी पालन, मुर्गी पालन, पशुधन-पालन, diary, fishery, agri-clinic और agri-processing आदि (excluding crop loans).

और इनका समर्थन करने वाली services जो income generateको बढ़ावा देती हैं।

MUDRA Loan Detail

Business को सफल बनाने वाले मापदंडों के आधार पर MUDRA loan की तीन category हैं।

1. SHISHU (शिशू): यह loan उन उद्यमियों के लिए है जो business शुरू करना चाहते हैं या उसे establish करने की process की प्रक्रिया में हैं। इस category मे maximum loan 50,000 रु है।

2. KISHOR (किशोर): MUDRA योजना के तहत, Loan की इस category मे ऐसे businesses को लिया गया है, जो अपने कारोबार का expansion , fresh funds से करते हैं। इसलिये, इस category मे approved loan 50,000 रुपये से 5 लाख रुपए तक है।

3. Tarun (तरुण): PMMY के तहत तीसरे प्रकार का loan उन उद्यमियों के लिए है जो खुद को business में स्थापित कर चुके हैं और फिर भी आगे की growth या diversification की तलाश कर रहे हैं। इस प्रकार के loan के लिए approved loan 500,001 से 10 लाख रुपये तक है।

MUDRA loan पर interest rate

PMMY के तहत कोई fixed interest rate नहीं है। Interest rate business के nature और उससे जुड़े risk पर depend करती है।


तो दोस्तो ये थी information Pradhan Mantri Mudra Yojana – प्रधान मंत्री मुद्रा योजना के बारे मैं?

हमें आशा है कि आपको यह blog post पसंद आया होगा। कृपया इस article को अपने निकट और प्रिय लोगों के साथ साझा (share) करें।

You Might Also Like – आपको पसंद आएंगे

Write A Comment

Pin It